बंगाल की तरह म्यांमार में भी मचा दिया था जिहाद, पर वहां की पुलिस भी जवाब देने में कम नही


भारत में एक विशेष समुदाय के लोग दंगे-फसाद करते हैं तो फ़र्ज़ी सेकुलरिज्म के नाम पर देश के नेता उनकी तुष्टिकरण करते हैं, देश के तथाकथित सेक्युलर मीडिया चैनल ऐसे दंगाइयों को भटके हुए नौजवान कह कर उनके द्वारा की गयी हिंसा को नज़रअंदाज़ कर देते हैं. 

मगर अन्य देशों में फ़र्ज़ी सेकुलरिज्म और वोटबैंक का खेल नहीं चलता. हाल ही में म्यांमार का एक ऐसा ही विडियो सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है.

इस विडियो में दिखाया गया है कि म्यांमार में कुछ जेहादी दंगे करने की कोशिश कर रहे थे. दंगाइयों की अक्ल ठिकाने लगाने के लिए म्यांमार पुलिस उनकी जम कर धुलाई कर देती है. असल में इन दंगाइयों ने लगभग सारी दुनिया में ही अपने आतंक का खेल चला रखा है. 

ये सभी दंगाई भी एक ख़ास सम्प्रदाय के होते हैं जिनकी घृणित मानसिकता होती है कि केवल उनका धर्म ही सर्वश्रेष्ठ है, सच है और अन्य सभी धर्मों झूठ है इसलिए अन्य धर्म के लोगों के खिलाफ आतंक मचाओ जेहाद फैलाओ.

नीचे जो वीडियो हम आपको दिखाने जा रहे है उसमे म्यांमार पुलिस रोहिंग्या जेहादियों को बेल्टो से मारते जरुर दिखाए गये है. हालांकि ऐसा करना उचित नहीं है मगर वहां के लोगों के लोगों का कहना है कि उनका देश तो बेहद शांत देश है 

मगर इन जेहादियों ने उनके देश की शान्ति भंग कर रखी है. इन्होंने वहां के बहुसंख्यक लोगों के खिलाफ इतने अधिक अपराध किये थे जिसके कारण वहां के शांतिप्रिय बौद्ध लोगों के सब्र का बाँध टूट गया. यही कारण है कि इन जेहादियों के खिलाफ वहां ऐसा व्यवहार किया जाता है.

देखिये कैसे म्यांमार पुलिस ने जेहादियों की अक्ल लगाई ठिकाने