कत्लेआम करने वाला इस्लामी आतंक नहीं दिखता पर "हिन्दू आतंक" दिख जाता है : रोहित सरदाना



सालों से बॉलीवुड के फ़िल्मबाजों ने अपनी घृणित फिल्मो से भारत में गंद मचाई हुई है 
उन लोगों के लिए हिन्दू समाज एक सॉफ्ट टारगेट हो चूका है, ये हिन्दुओ के खिलाफ फिल्मे बनाते है और आज तो हद ही हो गयी 

आज एक बॉलीवुड के फिल्मबाज़ जिसका नाम अनुराग कश्यप है उसने तो हिन्दुओ को आतंकवादी बता दिया 
पूरा मामला जानिये 

चित्तौरगढ़ की एक महारानी हुआ करती थी, उनका नाम था रानी पद्मिनी 
वो बेहद खूबसूरत थी, और उनकी खूबसूरती चारो ओर प्रसिद्द थी 

एक विदेशी मुस्लिम हमलावर जिसका नाम था अलाउद्दीन खिलजी, वो पहले दिल्ली पहुंचा उसने वहां कत्लेआम मचाया, फिर किसी ने उसे रानी पद्मिनी की खूबसूरती के बारे में बताया तो 
वो रानी पद्मिनी को अपनी दासी बनाने चित्तौरगढ़ पहुँच गया, वहां भीषण युद्ध हुआ, पर हिन्दुओ की अशोक के बाद से ही आदत रही है एकजुट नहीं रहने की 

अलाउद्दीन खिलजी युद्ध जीत गया, और रानी पद्मिनी को दास बनाने महल की ओर चल पड़ा 
रानी पद्मिनी के साथ हज़ारो हिन्दू महिलाओं ने बड़े से कुंड में कूदकर अपनी जान दे दी, जिसे जौहर भी कहते है 

बॉलीवुड का एक घिनोना फिल्मबाज़ है जिसका नाम है संजय लीला भंसाली 
ये एक फिल्म बड़ा रहा है, “पद्मावती” 
और इस फिल्म में इस @#@$# नीच फिल्मबाज़ ने रानी पद्मिनी को अलाउदीन खिलजी की प्रेमिका के रूप में दिखा दिया है 

कुछ हिन्दुओ ने राजस्थान में इसी संजय लीला भंसाली को 1 थप्पड़ मारा और थोड़ी धक्का मुक्की की 
किसी ने संजय लीला भंसाली की गर्दन नहीं काटी, न हथियारों से हमला किया 

पर तुरंत अनुराग कश्यप ने देश में “हिन्दू आतंकवाद” की बात कह दी, और कह दिया की हिन्दू आतंकियों ने देश में अशांति फैलाई हुई है 

अनुराग कश्यप को फिर पत्रकार रोहित सरदाना ने जोरदार लताड़ लगायी और कहा की, “सालों से मजहबी नारे लगाकर  लोगों का सर काटा जा रहा है, कत्लेआम किया जा रहा है पर बॉलीवुड वाले आजतक ये कहते है की, “आतंकवाद का कोई धर्म  कोई मजहब नहीं होता, पर कुछ हिन्दुओ ने एक डिरेक्टर को 1 थप्पड़ मार दिया तो देश में “हिन्दू आतंकवाद” हो गया, कमाल की दोगलापंति चल रही है देश में”