रमजान पर बैन, और मुस्लिमो के हाथ पैर बांधकर उन्हें शराब पिला रहा चीन, रोजा रखा तो पिलायेंगे शराब

चीन मुस्लिमो को लेकर कितना सख्त है ये वहां के मुस्लिम भली भाँती जानते है, चीन ने जब 1 बच्चे का नियम बनाया तो सबके लिए बनाया, अभी चीन ने जनसँख्या को बढाने के लिए इस नियम में थोड़ी छुट दी, अब इज़ाज़त से लोग 2 बच्चे कर सकते है पर ये छुट मुस्लिमो के लिए नहीं है

चीन हर साल रमजान के दौरान और सख्त हो जाता है और मुसलमानों के रोजा इफ्तार यानि व्रत पर रोक लगा देता है, मस्जिदों पर रोक, कुरआन पर रोक, नमाज़ पर रोक, ऐसा क्या है जो चीन नहीं रोकता रमजान में रोजा किसी ने रखा और प्रशासन को पता चला तो चीनी पुलिस मुह में जबरन खाना डालकर रोजा तुडवा देती है और सख्ती भी करती है

हर बार की तरह इस बार भी चीन रमजान और रोजा पर बैन लगा दिया है और नागरिको को सख्त आदेश दिया है की कोई रमजान में रोजा इफ्तार न करे, और अब चीन की सख्ती एक नए ही लेवल पर पहुँच गयी है

चीन मुसलमानों को जबरजस्ती सिर्फ खाना ही नहीं बल्कि शराब भी पिला रहा है, मुसलमानों के हाथ पैर बांधकर चीन उन्हें शराब पिला रहा है, इस्लाम में शराब हराम है और चीन इस बात को जानता है और वो हाथ पैर बांधकर मुस्लमान पुरुष और महिलाओं दोनों को शराब पिला रहा है

चीन मुसलमानों को चीनी शिक्षा देने के लिए पेइचिंग  में कैंप लगा रहा है और वहां पर मुसलमानों को जबरन बंद करके चीनी शिक्षा दे रहा है ताकि वो इस्लाम व कट्टरपंथ से दूर रह सके, और अपने कैंप में चीन मुसलमानों को जबरजस्ती शराब पिला रहा है, जो मुसलमान शराब पीने से कैंप में इंकार करता है उसे खूब पीटा जाता है और जबरन शराब पिलाई जाती है, जो पिटाई से नहीं मानता उसके हाथ पैर बांधकर चीनी पुलिस मुह में शराब डाल रही है

चीन का कहना है की वो अपने नागरिको को इस्लामिक कट्टरपंथ से दूर रखने के लिए ये सब काम कर रहा है, जबकि मुसलमानों का कहना है की चीन उनपर अत्याचार कर रहा है, हालाँकि चीन को इसकी परवाह नहीं है वो जैसा अच्छा लग रहा है वैसा मुसलमानों के साथ कर रहा है

आपकी जनकारी के लिए बता दें की चीन में 3 करोड़ के आसपास मुस्लिमो की संख्या है, और चीन ने इनको पूरी तरह अपने नियंत्रण में ले रखा है, और वो इनके प्रति काफी सख्त है और कोई ढील नहीं देता