जेडीएस+कांग्रेस की बात न मानने पर कर्णाटक के राज्यपाल पर बौखलाई पाकिस्तानी मीडिया, की आलोचना

कर्णाटक के चुनाव हो गए और आज नतीजे भी आ गए, पर इस चुनाव पर न केवल भारत, भारत की सोशल मीडिया भारत की मीडिया में बात हो रही है बल्कि इस चुनाव पर पाकिस्तान की मीडिया में भी भारी पैमाने पर चर्चा हो रही है

पाकिस्तान की मीडिया ने अब कर्णाटक के राज्यपाल की आलोचना शुरू कर दी है और कर्णाटक के राज्यपाल पाकिस्तानी मीडिया में विलन की तरह पेश किये जा रहे है, उन्हें आरएसएस का एजेंट, मोदी का एजेंट बताकर पाकिस्तान मीडिया टारगेट कर रही है

 


हुआ ये की किसी पार्टी को कर्णाटक में बहुमत नहीं मिला, सबसे बड़ी पार्टी बीजेपी है जो सरकार बनाने के लिए राज्यपाल के पास पहुंची, राज्यपाल ने भी बीजेपी के नेता येदीयुरप्पा को बहुमत साबित करने का समय दिया है, जबकि जेडीएस और कांग्रेस ने भी राज्यपाल के सामने सरकार बनाने का दावा पेश किया है पर अभी उपराज्यपाल ने उनकी बात को स्वीकार नहीं किया है

इसी को लेकर पाकिस्तान की मीडिया कर्णाटक के राज्यपाल की जमकर आलोचना कर रही है, पाकिस्तानी मीडिया का कहना है की राज्यपाल तानाशाही कर रहा है, और मोदी आरएसएस का एजेंट है, कर्णाटक में कांग्रेस और जेडीएस के पास बहुमत है फिर भी उनको सरकार नहीं बनाने दिया जा रहा

पाकिस्तानी मीडिया ने जोर शोर से मांग करी है की जल्द से जल्द कांग्रेस और जेडीएस को बुलाकर कर्णाटक में सरकार बनाई जाये, आपकी जानकारी के लिए बता दें की कर्णाटक चुनाव के दौरान सिद्धारमैया कराची भी गए थे, और इसके अलावा मणिशंकर जैसे नेता भी पाकिस्तान में थे, इसके अलावा सोनिया गाँधी ने रूस यात्रा के दौरान भी पाकिस्तानी सेना और ISI के लोगों से मुलाकात की थी, और अब कर्णाटक में कांग्रेस और जेडीएस की सरकार बने इसके लिए राज्यपाल पर पाकिस्तानी मीडिया बौखला रही है

साफ़ होता है की पाकिस्तान किसी भी कीमत पर भारत में कांग्रेस और उसके सहयोगियों की सत्ता चाहता है, जाहिर होता है की मोदी के खिलाफ भारत के विपक्ष के साथ पाकिस्तान पूरी तरह खड़ा है