जयंती धर्मवीर संभाजी महाराज की : अंग अंग कटवाया पर नहीं अपनाया इस्लाम, अमर है इनका नाम

आज अमर बलिदानी, महान योद्धा, धर्मवीर संभाजी महाराज की जयंती है, आज ही के दिन संभाजी महाराज का जन्म हुआ था आज 14 मई है और आज का दिन इतिहास के पन्नो में दर्ज है,  आज एक ऐसे महा योद्धा की जयंती है जिसने अंग अंग कटवा दिया पर वो झुके नहीं और इसी कारण धर्मवीर कहलाये, उनका जन्म आज ही के दिन 14 मई 1657 को पुणे के पुरंदर किले में हुआ था

संभाजी महाराज शिवाजी महाराज के बड़े बेटे थे और वो उनके बाद राजा बने थे, वो अपने पिता महान शिवाजी महाराज से भी अधिक धर्मनिष्ट थे और उन्होंने मुगलों पर और तेज आक्रमण शुरू कर दिए, ऐसे ही एक आक्रमण में मुग़ल उन्हें बंदी बनाने में कामयाब रहे

मुगलों ने उनको कैद कर लिया और उनको छोड़ने के बदले इस्लाम अपनाने के लिए कहा – संभाजी महाराज ने इंकार कर दिया, तो उनपर ऐसे अत्याचार किया गए जो की इतिहास में कदाचित किसी पर नहीं हुए

उनके नाख़ून उखाड़े गए, उनके बाल खींचे गए, त्वचा उखाड़ी गयी, आँख तक निकाला गया, अंग अंग कटवा दिया संभाजी महाराज ने पर इस्लाम नहीं अपनाया, इस्लाम के लिए उनके मुख से सिर्फ ना शब्द निकला

अपने शरीर का बलिदान उन्होंने स्वीकार किया पर इस्लाम को नहीं स्वीकारा और इसी कारण संभाजी महाराज धर्मवीर भी कहलाये, संभाजी महाराज की आने वाली पीढ़ी ने पेशावर तक पर कब्ज़ा किया, लाल किले पर भी कब्ज़ा किया और मराठा हिन्दू साम्राज्य भारत का सबसे बड़ा साम्राज्य भी बना

संभाजी महाराज समाज के लिए एक प्रेरणा है, वो महा बलिदानी है, धर्म के लिए बलिदान देने वाले अमर योद्धा है और उनसे आज समाज प्रेरणा ले सकता है, जुल्मो के आगे नहीं झुकना, और प्राण देकर भी अपने धर्म पर अडिग रहना ये आप संभाजी महाराज से सीख सकते है