केजरीवाल कांग्रेस से मिले पर मैं नहीं मिलूँगा, AAP से दे दूंगा इस्तीफा : एचएस फुल्का

आम आदमी पार्टी के मुखिया अरविन्द केजरीवाल कांग्रेस से पिछले कई दिनों से बातें कर रहे है, केजरीवाल ने कांग्रेस के कई नेताओं से बात की है, ताकि अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव के दौरान दिल्ली में वो कांग्रेस से गटबंधन कर ले

पुरे देश में आम आदमी पार्टी जमानत जप्त पार्टी बन गयी है, और पंजाब में भी अब AAP को कोई उम्मीद नहीं है वहां पार्टी बिखर चुकी है

और दिल्ली में भी अरविन्द केजरीवाल की स्तिथि चुनाव के लिए ठीक नहीं है ऐसे में 7 सीटों में से 00 आये इस से बेहतर है की कुछ तो आ जाये, और इसी जुगत में केजरीवाल कांग्रेस से संपर्क साध रहे है

केजरीवाल ने दिल्ली के कांग्रेस प्रमुख अजय माकन से बात की पर बात नहीं बनी, उन्होंने दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित से भी बात करी पर बात नहीं बनी

अब केजरीवाल को सोनिया गाँधी से बात करने का मौका मिला बेंगलुरु में, कुमारस्वामी के शपथ समारोह में केजरीवाल को भी बुलाया गया था और केजरीवाल ने बेंगलुरु में सोनिया गाँधी से बात करने की कोशिश भी की, हालाँकि सोनिया गाँधी ने बात करने से इंकार कर दिया

 

फुल्का एक वरिष्ट वकील है, वो जीवन भर कांग्रेस के खिलाफ लड़ते हुए आये है, 1984 दंगों के दाग कांग्रेस पर है और फुल्का न्याय के लिए अबतक अदालतों में लड़ रहे है

उन्होंने आम आदमी पार्टी इसलिए ज्वाइन करी थी की केजरीवाल ने कांग्रेस विरोध किया और राजनीती में आये, अब केजरीवाल कांग्रेस से बातचीत कर रहे है, वो अपने आदर्शों से समझौते कर चुके है

पर फुल्का ने कहा की वो समझौते नहीं करेंगे और केजरीवाल ने अगर कांग्रेस से हाथ मिलाया तो वो उसी समय आम आदमी पार्टी को त्याग देंगे पर कांग्रेस से किसी भी प्रकार का समझौता नहीं करेंगे