कांग्रेस के 12 और जेडीएस के 8 विधायक संपर्क में, कर्णाटक में बनेगी सिर्फ बीजेपी की सरकार

कांग्रेस और अन्य दलों के लोगों जहाँ सोचना बंद कर देते है, अमित शाह की सोच वहां से शुरू होती है, कांग्रेस ने 3 बजे ही हार को स्वीकारने के बाद अपने से छोटे दल जेडीएस को मुख्यमंत्री पद का ऑफर दे दिया, सिर्फ बीजेपी को रोकने के लिए, और कुमारस्वामी को जब मुख्यमंत्री पद का ऑफर मिला तो उन्होंने फाटक से स्वीकार कर लिया

पहले आपको बता दें की कर्णाटक की सरकार ने जो आज वोट दिया है वो कांग्रेस के खिलाफ दिया है, कांग्रेस को सत्ता से बेदखल करने के लिए दिया है, पर कैसे भी कांग्रेस सत्ता में जुड़े रहने के लिए जेडीएस से जा मिली, जो कल तक एक दुसरे को गालियाँ दे रहे थे, वो मिल गए, अब ऐसे में मर्यादा रह कहाँ जाती है

येदियूरप्पा ने राज्यपाल के सामने सरकार बनाने का दावा पेश कर दिया है, और कहा है की बहुमत विधानसभा में साबित किया जायेगा, बहुमत राज्यपाल के पास नहीं विधानसभा में ही साबित किया जाता है, और अब राज्यपाल ने भी चूँकि सबसे बड़ी पार्टी बीजेपी है इसलिए येदियूरप्पा को बहुमत साबित करने का समय दे दिया है

अब आपको कुछ गतिविधियो पर नजर रखनी होगी जिस से आप समझ सकेंगे की कर्णाटक में 100% बीजेपी की ही सरकार बनेगी, पूर्ण बहुमत से सरकार बनेगी, और पूर्ण क़ानूनी तरीके से सरकार बनेगी

 


कांग्रेस के 12 ऐसे विधायक है जो लिंगायत समुदाय से है वो एक लिंगायत को जो की येदियूरप्पा है उन्हें राज्य का CM बनाने के लिए कांग्रेस से बगावत करने को तैयार है, 12 कांग्रेस विधायक अमित शाह और बीजेपी के डायरेक्ट संपर्क में है और अब इसके बाद कांग्रेस में खलबली भी मच गयी है और इसी कारण कांग्रेस ने अब एक नया फैसला लिया है

 


कांग्रेस इतना घबरा गयी है की उसने अपने सभी विधायको को बेंगलुरु बुलाया है, ताकि सभी को कैद रखा जाये, सभी विधायको को पंजाब, तेलंगाना, आंध्र या तमिलनाडु के किसी रिसोर्ट में ले जाने की तैयारी की गयी है, पर इस से भी कुछ होगा नहीं, कुमार स्वामी के खिलाफ कांग्रेस के लिंगायत विधायक है, और वो येदियूरप्पा के लिए बीजेपी से मिल जायेंगे इसमें अब किसी को शक नहीं है, और कांग्रेस इस बात से डर गयी है

और दूसरी अहम् जानकारी ये भी की सिर्फ कुमारस्वामी ही नहीं देवेगौडा के एक और बेटे है जिनका नाम है रवन्ना, वो भी विधायक बने है, और वो भी अमित शाह के संपर्क में है, और जितने जेडीएस के विधायक जीते है उसमे से 8 रवन्ना खेमे के है, इस तरह कुल 8 जेडीएस विधायक भी अमित शाह के संपर्क में है

अब क्या मुश्किल रह गयी, राज्यपाल ने येदियूरप्पा  सरकार बनाने और बहुमत साबित करने  मौका दे दिया, और कांग्रेस के 12 प्लस जेडीएस के 8 यानि ल 20 विधायक अमित शाह के संपर्क में आ गए है, बीजेपी को बहुमत के लिए चाहिए 7 विधायक, और अमित शाह के लिए 20 में से 7 विधायको का इंतज़ाम करना उतना  मुश्किल काम है जितना आपके लिए ताली बजाना